25.1 C
Delhi
September 17, 2021
Charis Journal

पुलिस ने 7 लोगों को किया गिरफ्तार, तेजस्वी-तेजप्रताप को लेकर SP ने कही ये बात, तेजस्वी-तेजप्रताप को लेकर SP ने कही ये बात

पूर्णिया. बिहार के पूर्णिया में रविवार को हुई बहुचर्चित दलित नेता शक्ति मलिक हत्याकांड (Dalit leader Shakti Malik Murder) को लेकर एसपी विशाल शर्मा (SP Vishal Sharma) ने बड़ा खुलासा किया है. एसपी ने कहा कि इस हत्याकांड में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) समेत सभी नामजद छह राजद नेताओं का कोई हाथ नहीं है. उन्‍होंने कहा कि इस मामले में शामिल मुख्य अभियुक्त आफताब समेत सात अपराधियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. एसपी ने उस सीसीटीवी फुटेज को भी दिखाया जिसमें हत्या के बाद अपराधी भाग रहे थे. जबकि गिरफ्तार अभियुक्तों के पास से पुलिस ने चार देशी कट्टा, एक पिस्तौल और चाकू भी बरामद किया है.

शक्ति मलिक से ऑफिस बरामद हुआ ये सामान
इसके अलावा शक्ति मल्लिक के ऑफिस से नोट गिनने वाली मशीन, कई स्टांप पेपर, डायरी और अवैध तरीके से लोगों को सूद पर रुपये देने के कई कागजात बरामद हुए हैं. एसपी विशाल शर्मा ने कहा कि शक्ति मलिक काफी दबंग और क्रूर आदमी था. वह लोगों को सूद पर रुपये देता था, खासकर वह महिलाओं को रुपये देता था और बदले में उनसे छेड़खानी करने के साथ-साथ ब्लैकमेल करता था. यही नहीं, वह सूद पर रुपये देने के बाद लोगों को प्रताड़ित करता था और अपने अवैध धंधे से लेकर राजनीति में उन लोगों का दुरुपयोग करता था. हत्या से एक दिन पहले भी उसने आफताब समेत कुछ लोगों को रुपये नहीं देने पर दिनभर बैठाकर रखा और गाली गलौज की थी. इसी आक्रोश में सातों अपराधियों ने प्लान बनाकर शक्ति मलिक की हत्या कर दी.

मलिक पर दर्ज थे छह मामले
एसपी ने कहा कि जांच में सभी नामजद लोगों के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं हैं. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि मृतक शक्ति मलिक पर पहले से अपहरण, ब्लैकमेलिंग समेत 6 मामले दर्ज थे. वही़, गिरफ्तार आरोपी आफताब ने मीडिया के सामने स्वीकार किया कि उसने हत्या नहीं की बल्कि शक्ति मलिक जैसे रावण का बध किया है, क्योंकि उसने सबका जीना हराम कर दिया था. वह महिलाओं के इज्‍जत के साथ खिलवाड़ करता था और सबको ब्लैकमेल करता था. इसके अलावा आफताब ने कहा कि कुछ पुलिसकर्मी और पत्रकारों की भी उससे संबंध है. जबकि एसपी ने कहा कि अगर जांच में किसी पुलिसकर्मी की शक्ति मलिक के साथ संलिप्तता पाई जायेगी तो उन पर कार्रवाई होगी.

 

गौरतलब है कि शक्ति मलिक की पत्नी खुशबू देवी ने शक्ति मलिक के हत्या में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव, अनिल साधु, मनोज पासवान, कालू पासवान, सुनीता देवी समेत राजद के बड़े नेताओं के खिलाफ हत्या और एससी- एसटी एक्‍ट के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई थी.

Related News

1 comment

storno brzinol June 4, 2021 at 11:13 AM

An fascinating dialogue is price comment. I believe that you must write extra on this topic, it won’t be a taboo topic but generally individuals are not enough to talk on such topics. To the next. Cheers

Reply

Leave a Comment